Tuesday, July 01, 2008

अल्फ़ाज़


आँखों की साया में मोहब्बत लिक्दु,

होटों के शबाब में प्यार लिक्दु,

गालों के गुलाब पे पैगाम लिक्दु,

अगर ना आए यक़ीन तो,

आपके दिल के दरवाज़े पे अल्फ़ाज़ लिक्दु....!

No comments: