Tuesday, July 01, 2008

ऐ किसीकी तमन्ना था ???

ऐ किसीकी तमन्ना था ???

कलि खिल्रह जैसे मोहब्बत महकरहा था,

प्यार में खुशियाँ बुलंद था,हर गली में इश्क बहकरहा था,

किस जालिम का ऐ तमन्ना था ?

कलि खिल्नेसे पहेले तोड़ना, ऐ किसीका फ़साना था ?

No comments: